Category Archives: Kavita

Indian Modernism: आधुनिकता या फिर नकल करने का घातक प्रयास

via Indian Modernism: आधुनिकता या फिर नकल करने का घातक प्रयास

Advertisements

Reblog- राजनीतिक इश्क़

मैं लाचार सा एक आशिक़ हूँ, हालत मेरी सरकार के भक्तों जैसी है !

अगर याद करूँ वो शुरुआती दिन ,

जैसे किसी चुनावी तैयारी में गुजर रहे थे, रात और दिन |

तब तू रोज मुझसे मिलने आती थी , कसमें वादे रोज़ नए… Read More

Guys Do listen audio version of this poem

 

Shubhankar Thinks

 

Reblogged – समर शेष है

कठिनाइयों की मारामार,

ऊपर से विफलताओं का अचूक प्रहार!

निराशाओं से भ्रमित विचार,

जैसे रुक गया हो ये संसार||

 

मस्तिष्क का वो पृष्ठ भाग ,

कर रहा अलग ही भागम भाग!

गति तीव्र हो गयी है रक्त की शिराओं की,

दिशाएं भ्रमित हैं रक्तिकाओं की|

Read more 

http://shubhankarthinks.com/%E0%A4%B8%E0%A4%AE%E0%A4%B0-%E0%A4%B6%E0%A5%87%E0%A4%B7-%E0%A4%B9%E0%A5%88/

© Shubhankar Thinks

Reblogged :- घरौंदा

मेरे घर के आँगन में एक बड़ा सा पेड़ है बरगद का,

जानवरों को धूप से बचाता है , हम सबको ठंडी छाँव देता है !

इन सबके साथ साथ वो आशियाना है उस नए प्राणी का|

 Read more

http://shubhankarthinks.com/274-2/

Please don’t forget to subscribe my new blog Shubhankar Thinks 

व्यंग:- आखिर दोषी कौन है?

आज विजययदशमी के मौके पर ,

एक व्यंग मेरे दिमाग में अनायास चल रहा है!

पुतला शायद रावण का फूंका जायेगा,

मगर मेरे अंतःकरण में एक रावण जल रहा है|

तर्क-कुतर्क व्यापक हुआ है, हठी, मूढ़ी भी बुद्धिजीवी बना है!

आज दशहरा के मौके पर कोई सीता पक्ष तो,

कोई रावण पक्ष की पैरवी में लगा है|

Top post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

आगे पढ़ें…….

 

आप सभी को विजयदशी की हार्दिक शुभकामनायें,

आपको मेरी कविता अच्छी लगी है तो कमेंट करके अपनी प्रतिक्रियाएं अवश्य दें|

Discussion

Hey Guys I don’t know what’s wrong with WordPress, I am reading and commenting on your posts and I think, automatically all of my comments are listed as spam so please check your spam folder ,it’s my  request to all who got my likes on their posts because I always try to make comment on every post.

सुप्रभात,
              नमस्कार दोस्तों ,कैसे हैं आप सभी लोग ?
आज मैं आपसे दो चार जरूरी बातें करने के लिए आया हूँ , तो शुरू करता हूँ –
१- मेरी नई कविता ब्लॉग पर पब्लिश हो गयी है ,आप दिए गए लिंक पर जाकर कविता पढ़ें और वापस यहां बताएं आपको कविता कैसी लगी ?
२- ये बात है आपको होने वाली असुविधा की क्योंकि मेरे नए ब्लॉग पर कमेंट का ऑप्शन वर्डप्रेस मोबाइल एप्प यूज़र्स के लिए नहीं आ रहा , मैंने इसको साल्व करने की कोशिश में दो दिन निकाल दिए मगर कोई भी सोलुशन नहीं मिला, आप लोग मोबाइल से भी कॉमेंट कर सकते हैं अगर आप मोबाइल एप्प से ना खोलकर वेब ब्राउज़र से ये लिंक खोलेंगे तब !
३- तीसरी बात ये है कि , पिछले दो दिन से मैं बहुत सारे लोगों के ब्लॉग पढ़ रहा हूँ और कमेंट भी कर रहा हूँ मगर मुझे ऐसा लग रहा है कि मेरे ज्यादातर कमेंट वर्डप्रेस स्पैम बॉक्स में भेज रहा है, आप सभी से मेरा अनुरोध है कृपया एक बार कमेंट बॉक्स चेक कर लें !
इन्हीं सब बातों के लिए मैंने ये पोस्ट लिखी थी ,
आप सभी को दुर्गा अष्टमी की बहुत सारी शुभकामनाएं
धन्यवाद!