Reblogged :- घरौंदा

मेरे घर के आँगन में एक बड़ा सा पेड़ है बरगद का,

जानवरों को धूप से बचाता है , हम सबको ठंडी छाँव देता है !

इन सबके साथ साथ वो आशियाना है उस नए प्राणी का|

 Read more

http://shubhankarthinks.com/274-2/

Please don’t forget to subscribe my new blog Shubhankar Thinks 

27 thoughts on “Reblogged :- घरौंदा

  1. दिल को झकझोरती आपकी कविता।अनगिनत भावनाएँ दिल में उठती हुई।
    पता नही अब वे उड़ना भूल गए ,
    या अपना घरौंदा ही भूल गए,
    नही –नही ऐसे नहीं वे,
    फिर कैसी है वो जगह ,
    जहाँ उड़ना भूले वे,
    आज,
    प्रकृति की शोर में एक घरौंदा वीरान,

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s