Selfish or self care

(hello guys , how are you all? As you know I started my Hindi story but unfortunately I could not justice to story as per your reactions because when I started people have lot of views but after 2,3 part , you people just did  the favour to me by  your likes :)m sorry but I can’t stop my words so today again I am going to start a story so please give me a chance and pay your attention 😁)

      

    Part -1

    ” Hey dude “- Rohan is doing workout in gym and suddenly , words came to him . Within second Rohan respond “Yo man!”

    Actually it was Akash who is the close friend of Rohan and both are gym partner also .Today he got late so Rohan have started workout and during workout Akash enter and say that line after finishing a set Rohan give response to him and ask the reason “why  you are late today ”

    Akash is little bit funny and flirty so he speak in a naughty way “you know Deepti na! Just having chill pill with her ;)”

    Rohan knows everything about him so he is doing workout continuesly.actually Rohan is simple and silent lover guy , he don’t care about college girls , affairs or benicial friendships 😂(it happens at college time , no one will accept but it happen ) that’s not mean Rohan is borring or study lover or brilliant student , no he loves to live alone that is why he spend most of his time in hostel room ,his rommiee also feel why he is so different from others but no one want to ask because sometimes he do speak , also he do speak funny Thoughts .He is helpful much but he never intrect with neighbors .

    His Daily routine is very small.

    Go to college after that return back to hostel then go to gym that’s it .Classmates feel amaze when he don’t speak a single word in gossip groups that’s not mean he keep silent whole day , he speak to all but it happens when anyone try to intrect first .May be he is still observing the behaviour of people because he is new in college ,people are from different different states . Rohan never share anything about him ,if anyone tries to ask then he passes a huge smile and divert the question smoothly because tricks are in his hand and he is master in talkology (I just use this term because he know how to play with words but he speak rarely to anyone .)

    One thing is common , everyone is addict of social media , same like that Rohan also love to spend time on social sites .

    Life is passing around with time ,one day he was just sitting in room and wifi connection was failed because of disaster and there is no chance to restart the wifi till night , as you know  now days wifi is the “sanjivni booti ” in hostels , because people do watch movies , surfing,chatting most of their time , I can’t say it is habit or time pass . Rohan was also greeting bore ,actually the term bore comes after 20’s now a 10 year old child say “oh mom !I am getting bore today what should I do ”  :mrgreen:

    As you know  youth can live without food or water but without data they can’t spend 2-3 hours so finally Rohan decided to subscribe a small netpack ,which contains small amount of data but it is enough to spend 3-4 hours on WhatsApp so he just activated the pack and start the internet connection of his smartphone after that notifications start ringing . He ignored all and first of all opened the WhatsApp , bulk of group messages came with in seconds and list was changing continuesly and suddenly Rohan saw a  number without any name and he don’t open it because display picture was not there . He thought may be contact is not in my phone that’s why it is not showing dp so he saved that number randomly in list and came back to WHATSAPP but still dp was not there now he opened the chat ,there were two messages “hiii”at 9pm and second one was ” are you there ” at 9:45pm .He was failed to identify that number as you know it is not normal situation for a guy 😂😂😂I know girl get lot of direct messages like this but for a guy is surprise . 

    …..To be continue 

    © Confused Thoughts

    (I know  you read this story till end so. I expect honest reactions from all of you ,if story was borring then without any fear ping me sure I will stop writing stories 😂😂😂and you can give your suggestions ,corrections also .

    Thank you )

    अन्तिम दृश्य – भाग -४ 

    ​इस बार चित्रण थोड़ा आगे निकल चुका था। मानो जितने समय सुधीर व्यस्त हुआ उस वक्त का सारा अध्याय निकलकर आगे पहुंच गया हो…
    “भैया वो बात ये है कि मैं इस लडकी से शादी नहीं कर सकता!” – विनोद ने संकोचवश बड़ी धीमी आवाज में  बड़े भाई से  फुसफुसाते हुए कहा।
    इतना सुनते ही सुधीर के पैरों तले जमीन खिसक गयी आखिर बात ही ऐसी बोली थी।
    हुआ ये था कि सुधीर अब २३ वर्ष का हो गया था और अच्छी खासी नौकरी भी लग गयी थी तो शक्तिप्रसाद को लगा कोई अच्छी लड़की देखकर इसकी भी शादी कर देता हूं। फिर सारे कर्मों से तृप्त होकर पत्नी के साथ तीर्थ दर्शन को निकल जाऊंगा।
    सोचने की देरी थी, बिना किसी की मर्जी पूछे बोल दिया पंड़ित जी से “अगर कोई अच्छा रिश्ता आये तो बता देना।” 
    पहले दोनों बेटों की शादी ऐसे ही तय हुईं थीं। अब भला शक्तिप्रसाद का निर्णय कौन  टाल सकता था। भाग्यवश पंड़ित जी की नजर में एक अध्यापक की लड़की सुनिधि थी, जो पढ़ाई में विलक्षण और गृहकार्य में दक्ष थी और रूप ऐसा कि मानो कामदेव अगर देख ले तो सहर्ष सेवक बनने को तैयार हो जाये।
    सारे गुणों का अवलोकन करने बाद अगर उसे कोई देख ले, तो किसी देवी से कम नहीं लगेगी। क्योंकि लज्जा, शालीनता, कोमलता और सदाचार ये सभी उसके गुणों में शुमार थे। सुनिधि के पिता को भी सुयोग्य वर की तलाश थी,  पंड़ित जी ने झटपट शक्तिप्रसाद से मिलवा दिया बस फिर क्या था! दोंनो का मिलाप ऐसे हुआ मानो दोनों पहले से ही सहमत थे। बस औपचारिकता मात्र की कमी थी, वो अब दूर हो गयी। आखिर विनोद भी बड़े शहर से पढ़ा था और आज अच्छे पद पर आसीन है। सुदूर गांव तक शक्ति प्रसाद के लड़कों के चर्चे होते थे और यह बात अध्यापक महोदय भली – भांति जानते थे।
    बस फिर क्या था, पंड़ित जी से कहकर माथा छुआई की तिथि निश्चित कराई गयी और शक्तिप्रसाद ने घर जाकर बताया तो सभी खुश हुए और विनोद को भी फोन करके बुलवाया गया और आज घर का पूरा बरामदा खचाखच भरा हुआ है। एक तरफ महिलायें चूल्हे पर नाना प्रकार के पकवान तैयार करने में लगीं हैं, वहीं लगातार बड़ी खाट पंक्तिबद्ध लगीं हैं जिनपर अतिथि,  कन्यापक्ष के लोग और गांव के बुजुर्ग भी बैठे हुए हैं। छोटे-२ बच्चों का समूह सारी पंक्तियों की भागकर परिक्रमा कर रहा था मानो ये कोई बाधा दौड़ की प्रतियोगिता हो।
    और वहां सीढ़ियों के ठीक पास एक छोटी – सी खाट पर विनोद और सुधीर दोनों बैठे हुए हैं और सुधीर अभी तक सन्न – सा बैठा हुआ है मगर फिर भी थोड़ा धीरज रखकर कठोर स्वर में बोलता है – “आखिर क्यों? इतनी अच्छी लड़की है, पढ़ी – लिखी भी है और पिता जी ने पक्का भी कर रखा है।” 
    “भैया, आपकी बात सही है मगर मैं किसी को वचन दे चुका हूं और अब मैं उस लड़की के साथ कपट नहीं कर सकता।” – विनोद ने बड़ी निष्ठुरता से यह प्रक्षेपास्त्र सुधीर पर छोड़ दिया, जिसने सुधीर के हृदय का आन्तरिक छेदन कर दिया मगर भ्रातृ प्रेम के कारण उसने आह तक भी नहीं की और चुपचाप पिताजी को सारी बातें बताकर खुद शक्तिप्रसाद के गुस्से का शिकार बना काफी देर आग बबूला रहने के बाद शक्तिप्रसाद ने अध्यापक महोदय से क्षमा मांगते हुए उनके समक्ष अपनी बात रखी और उन्हें अतिथियों सहित विदा कर दिया और अब शक्तिप्रसाद की नजरें विनोद को यहां – वहां टटोल रहीं थीं। मगर विनोद घर पर हो तब दिखेगा ना! उसे तो सुधीर कब का शहर वाली बस में बैठाकर विदा करके आ चुका था।
    आखिर शाम को शक्तिप्रसाद ने सुधीर से पूछा – विनोद कहां है?
    “पिताजी वो जा चुका है!” – सुधीर ने उत्तर दिया।
    शक्तिप्रसाद बैठक की ओर निरुत्तर – से चले गये। आज पहली बार उनके चेहरे पर अलग – सी शिकन थी। एकदम शांत बैठे विचारों की उधेड़ – बुन में लगे हुए थे। यह उनके जीवन का पहला अनुभव था जिसमें उन्हें पूरे गांव के सामने शर्मिंदगी झेलनी पड़ी।
    मगर एक तरफ देखें तो मधुमति बेचारी क्या करे , सुबह से खुशी – खुशी काम में लगी थी और अब सारे बर्तन समेटकर धोने लगी है और सुबह से श्वांस में परेशानी और ज्वर भी है फिर भी काम में पिसी पड़ी है। किसी को उसकी चिन्ता नहीं और वो अपने हृदय की भावनायें किसी से कह भी नहीं सकती।

    आगे पढ़ें …..

    अपनी प्रतिक्रिया जरूर दें 

    भाग-१

    भाग-२

    भाग-३

    मतलबी 

    मतलबी सी दुनिया है

    बातें मतलबी सी हैं !

    बिल्कुल ऐसे जैसे 

    बातों में फरेब है 

    या फिर 

    फरेब की सी बातें हैं !!
    मैं भी मतलबी हूं यार

    तू भी मतलबी है यार,

    मतलबों की दोस्ती है 

    या मैं कहुं 

    दोस्ती में कोई मतलब है छिपा !

    मतलबी हर कोई  इंसान है

    मतलबी सारा जहान है , 

    मतलब के लिए रिश्ते हैं 

    या फिर 

    रिश्तों में भी मतलब मिला है

    पता नहीं ये खुद बने थे ,

    या फिर किसी मतलब के लिए बनाये गये थे !!
    मतलबी सा प्यार है  सब 

    मतलब के लिए दिलदार हैं सब 

    मैं भी मतलबी हूं यार क्योंकि

    मतलबी संसार है अब !!
    ©Confused Thoughts

    My Confused Thoughts – Words 

    Hello friends , how are you all ? Hope you all are doing well if not then hit me back .

    Now let’s come to the point , as you know i am confused by my thoughts so today again words are pulling me to write something on WordPress ,I really don’t know what will be that title but I am writing first .

    Today I opened YouTube and listened poetry . Some poetries were heart touching , some of them were normal (I can’t judge if I can’t write like this ) but there was a difference between heart touching and normal poetry .It was just words , everyone knows that English have 26 and Hindi have only 52 alphabets but matter is that how poet use the alphabet ? How beautifully he/she have arranged the words ! 

    Honestly I am writing since December but still I don’t care about words ,may be it is my lazyness or lack of knowledge but still I am learning , I learn very much from your posts , your poems so it is your responsibility (WP family)you should point out mistakes if me or anyone is misusing the words .I think WordPress is place where only those people come who are really  poetry lover or writer , who think they can read or write something better so understand how much effort are putted by someone who write a poem , story or blog , I mean to say he/she try to put his/her all feelings in blog . I don’t know why I am telling all these things because everyone know about all but thing is that you should react .That’s all I will not bring my thoughts to other direction so come to the point .

    “Words never die , words never come back they roam around the globe , they are alive till the end “

    According to our holy books Purana , Shastra . If you don’t know what is Purana then don’t be confused by this word if you know then it’s good . Actually I am hindu and I am not sure but shastra and Purana’s are basic fundamentals of Hinduism . Actually Hinduism have no definition , no boundaries , no limits , also can’t say it is religion because it is a culture where you are free to do anything (oops sorry again ) . Now you are thinking that I am racist because I have used all my words about Hinduism only .My words are showing that I am praising my religion . That was the effect of word arrangement .

    “Actually I hate all things which ends with  ism prefix , like racism , sexism , castism , nationalism  except criticism and Hinduism (sorry I can’t help it ) .”

    Now you are thinking I am getting mad because at starting topic was different after that I have talked about WordPress then I entered in religion after that silly statement 😁😁😂😂. 

    Actually I was just trying to point my thought which is word ,I mean to say 

    Setting of your words can change the whole senerio , sometimes a single word make totally different meaning .

    Words are word they climb in everyone’s mind but it is your choice how nicely you use them . 

    so choose your words wisely .

    Thank you to all who are reading till end if you are not then you are more luckier than readers because you have saved your time but please don’t throw your free likes on my post if you are not reading (I am so sorry sometimes I become rude ) as you know I also misuse my words but I can’t help it because of my confused Thoughts . 

    ©Confused Thoughts

    अन्तिम दृश्य भाग-३

    ​”ट्रिंग…. ट्रिंग…….” – इतने भीषण सन्नाटे को चीरते हुए फोन की रिंग ने पूरे कमरे में कोलाहल कर दिया। रात के १२ बजे थे, ये ध्वनि थी सुधीर के फोन की, जिसने पल भर में सुधीर को वर्षों के अतीत से निकालकर वर्तमान समय में एक छोटे कमरे में लाकर पटक दिया! 
    सुधीर ने पहले इधर – उधर देखा, फिर बायें जेब में हाथ ड़ाला मगर फोन दायें जेब में था, फोन निकाला और कान से लगाया!
    “सॉरी भैया! मैं एक इम्पोर्टेन्ट मीटिंग में था। अभी – अभी वापस घर पहुंचा हूं -……” – ये आवाज थी अजीत की!
    “हां कोई बात नहीं! सुनो, वो, पिताजी की तबियत बहुत ज्यादा खराब है। हॉस्पिटल में भर्ती है और सुबह से तुम दोनों को याद किये जा रहे हैं”-

    सुधीर ने अजीत को बीच में ही रोकते हुए ये बात कही।
    “मगर भैया! आप तो जानते हैं यहां से आने और जाने में पूरा दिन लग जाता है। अगर मैं आने की कोशिश भी करूंगा तो आप जानते ही हैं प्राइवेट जाब्स में देर नहीं लगाते नौकरी से निकालने में। ऊपर से श्वेता और निक्कू को अकेला रहना पड़ जायेगा। उनका ख्याल कौन रखेगा इस अंजान शहर में!” – अजीत बड़ी परेशानी दर्शाते हुए बोला।
    “ठीक है!” बोलते हुए सुधीर ने ऐसे फोन काट दिया मानो असंख्य प्रश्नों का उत्तर अजीत ने एक बात में दे दिया हो और अब कोई प्रश्न सुधीर के पास बचा ही ना हो।
    तभी सोचा अब विनोद से भी पूछ लिया जाये वो भी घर पहुंच गया होगा।
    नम्बर डायल किया-
    “नमस्कार भैया, कैसे हैं आप?” – उधर से बड़े मीठे स्वर में आवाज आयी, मानो किसी ने मिश्री का घोल बातों में डुबा दिया हो या फिर बात ही मिश्री में डुबा कर बोली हो, यह कहना अतिशयोक्ति नहीं होगी।
    “मैं अच्छा हूं, मगर पिता जी की तबियत आजकल बहुत ज्यादा खराब रहती है और आज तो ठीक से बोल भी नहीं पा रहे हैं” – बोलते – बोलते गला रूंध गया सुधीर का। आखिर वो किसको अपना दर्द बताता।
    “भैया, घबराइये मत! वो ठीक हो जायेंगे” – विनोद ढ़ांढ़स बंधाने के उद्देश्य से बोला।
    “हां, मगर वो तुम दोनों को देखना चाह रहे हैं। तुम आ सको तो आ जाओ थोड़ा वक्त निकालकर” – 

    सुधीर ने बिना उम्मीद के ये बात बोली।
    “भैया! मन तो मेरा कर रहा है अभी उड़ कर वहां आ जाऊं। यहां तक कि मुझे नींद भी नहीं आयेगी ये जानकर। काश ये सच हो पाता मगर आपको तो पता है…….” – विनोद ने फिर से मिश्री लगाकर ये बात कही। वो कहते हैं ना झूठे अमृत से अच्छा विष भरा सच पी लेना चाहिए। वही सुधीर ने किया।
    “ठीक है!” बोलते हुए फोन काट दिया और विनोद को अपनी बात पूरी भी नहीं करने दी।
    जीवन में कभी उदास नहीं हुआ था सुधीर! चाहे कितने भी कष्ट आये जीवन में, मगर आज कष्ट का प्रकार ही अलग है और ना चाहते हुए भी आंसू, पहाड़ से, दरवाजे से, सभी अवरोधों और पत्थरों को बहाकर बाहर तक आ गये और ये धारा इतनी तेज थी मानो समूचे गॉंव को पल भर में बहाने के इरादे से निकली हो! 
    सुधीर भी कहां हार मानने वाला था। उसने विशाल बांध लगाकर अगले ही पल समूची धारा को ऐसे सोख लिया मानो समुद्र में किसी ने एक लोटा जल ड़ाला हो। अब आप बताओ, उस एक लोटा जल से कहां बाढ़ आयेगी?
    तभी उसने देखा शक्तिप्रसाद हलचल – सी कर रहे हैं, वो दौड़कर गया और बोला आप कोशिश मत करिये। मुझे आवाज दे दिया करो।
    “पानी” – सिर्फ इतना ही बोल पाये शक्तिप्रसाद।
    अब आप खुद बताओ  बब्बर शेर अगर बूढ़ा हो जाये तो क्या वो अब शेर नहीं कहलायेगा। हां इतना जरूर है शिकार करने की ताकत अब उसमें नहीं रहेगी, मगर हौसले अभी भी दूर तक दहाड़ मारने का रखेगा। अब शक्ति प्रसाद भी बूढ़े शेर की भांति कोशिश करते। मानो अभी उठ बैठेंगे, मगर शरीर रूपी अवरोध उन्हें सफल कहॉं होने दे रहा था? 
    “लीजिए” – सुधीर इतने में पानी ले आया और बोला! 
    पानी पीने के बाद फिर से आंखें बन्द कर लीं।
    सुधीर कुछ पूछना चाहता था, कुछ बोलना चाहता था, मगर तब तक आंखें बन्द हो चुकी थीं। मानो सायंकाल के बाद मन्दिर के कपाट बन्द कर दिये हों और कोई भक्त काफी समय पंक्ति में लगे रहने के बाद भी दर्शन से वंचित रह गया हो।
    मगर कर भी क्या सकता था वो जानबूझकर तो ऐसा नहीं कर रहे थे। मगर मन पर किसका वश चला है! एक टीस तो उसे रह जाती कि काश ये थोड़ी बात कर सकें।
    वैसे कभी बाप – बेटों की बातें काम से ज्यादा नहीं होती थीं, मगर शक्तिप्रसाद काफी दिनों से बोले नहीं थे, तो सुधीर उन्हें  सुनने के लिए व्याकुल था।
    सुधीर कमरे से बाहर तेजी से गया और इस बार ना जाने कैसे उस एक लोटा जल ने विशाल सागर में प्रलय – सी ला दी! मानो कोई बड़ा समुद्री तूफान आ गया हो और आज समूचे प्रदेश को बहा ले जायेगा।
    और कुछ पल के लिए बिजली के समान गर्जना करते हुए आवाज सुधीर के हृदय से गले तक आयी मगर उसने धरती की भांति उसको ढ़कते हुए भूकम्प के कम्पन में बदल दिया। जैसे कोई बड़ा हादसा टाल दिया हो। 
    और अगले ही पल महर्षी अगस्त्य के समान समूचे सागर को आंखों के एक कोने में समेट दिया और अश्रु पोंछते हुए वापस आकर बैठ गया।
    थोड़ी देर शांत बैठने के बाद फिर से अतीत का चित्रण सिनेमा की भांति आंखों के सामने चलने लगा और इस बार चित्रण थोड़ा आगे निकल चुका था। मानो जितने समय सुधीर व्यस्त हुआ उस वक्त का सारा अध्याय निकलकर आगे पहुंच गया हो! 

    ।।

    भाग-१

    भाग-२

    भाग-३

    भाग-4

    भाग -५

    भाग-६

    चुनावी मौसम

    फिर से लगीं मुजलिसें वहॉं   पर

     शमा भी हसीन हो चलीं हैं 

    वो वीरान सी पड़ी बस्ती में 

    अब रातों में भी रोशनी जलने लगी हैं 

    वर्षों से सूखे पड़े दीयों में 

    तेल जाने  अब  कौन दे रहा है?

    अब शामें भी खुशनसीब हो चली हैं !

    वो पूछ रहा था हाल चाल उन सबसे 

    जिनके हिस्से की रोटी 

    वो कबकी डकार चुका है 

    पूछ रहा है घर के हालात उस गरीब से 

    जिसके हिस्से के पैसे वो कबसे मार रहा है ! 

    शातिर दिमाग हो तो तुम जैसा 

    बेसुरा राग हो तो तुम जैसा 

    उस दिन हाथ जोडकर वोट मांगा था तुमने

    फिर मुड़कर कभी ना देखा था तुमने 

    मगर आज फिर से सिर झुकाया है तुमने 

    कोई बेशरम हो तो तुम्हारे जैसा !

    वो गरीब आज भी उम्मीदें रखता है 

    तभी कड़ी धूप में तुम्हारे भाषण देखता है 

    मगर कौन समझाये उस बेचारे को 

    ये सियासत है मेरे दोस्त

     यहां हर कोई जिस्म से लेकर ईमान तक बेचता है !


    ©Confused Thoughts

    Wings

    Hello guys , I hope you all are doing well ,today I am going to publish my first English poem name as Wings and I dedicate my poem to all  who are daughters , sisters , friends and wife of anyone .


    I wish , I can fly 

    High in the sky 

    My dreams are fresh 

    But road map is dry .


    I wish I could 

    Go to the  high 

    way is toughest 

    But lemme try.


    Concrete on street 

    Darkness around me

    I dont fear it cz 

    Motivation is high


    ​i may fall I can fail 

    Chances are high

    I will never give up

    It is my firm intention

    That is why

    Will never cry.

    My goal is clear 

    My dreams are superior

    I have all strengths

    I should ,I have to 

    Make me satisfy 

    Because my wings are 

    Made to fly in the sky.






    ©Confused Thoughts